"...वह ईश्वर का संकेत है, चुनी हुई शाखा है, प्रभुधर्म का संरक्षक है ... बहाउल्लाह के प्रियजनों को उसी की ओर अभिमुख होना चाहिए। वह ईश्वरीय शब्दों का व्याख्याकर्ता है...।”



अब्दुल-बहा

यह सुनिश्चित करने के लिए कि उनका ’प्रकटीकरण’ एकता के सूत्र में पिरोये हुए विश्व के निर्माण का उद्देश्य प्राप्त कर सके – तथा बहाई समुदाय की एकता को सुरक्षित बनाए रखने के लिए – बहाउल्लाह ने अपने ज्येष्ठ पुत्र, अब्दुल-बहा, को अपनी ’संविदा का केंद्र’ नियुक्त किया और विश्व न्याय मन्दिर की स्थापना का निर्धारण किया। उसी तरह, अब्दुल-बहा ने विश्व न्याय मन्दिर के कार्य-संचालन के सिद्धान्तों का प्रणयन किया और यह बताया कि उनके निधन के बाद बहाइयों को उनके ज्येष्ठ नाती, शोगी एफेन्दी, की ओर उन्मुख होना चाहिए जिन्हें उन्होंने ’बहाई धर्म का संरक्षक’ कहा।

विश्व न्याय मन्दिर और धर्म-संरक्षक दोनों का दायित्व यह था कि वे बहाई सिद्धान्तों को क्रियान्वित करें, विधानों की घोषणा करें, संस्थाओं को संरक्षण प्रदान करें और एक सतत विकासशील समाज की जरूरतों के अनुरूप बहाई धर्म को ढालें।

असाधारण दूरदर्शिता, विवेक और श्रद्धा के साथ, शोगी एफेन्दी ने 36 वर्षों तक विकास का सुनियोजित रूप से पोषण किया, बहाइयों की समझ विकसित की और ऐसे समय में बहाई समुदाय की एकता को मजबूत बनाया जब कि वह समस्त मानवजाति की विविधता को झलकाते हुए सतत रूप से विकसित हो रहा था।

समुदाय के मामलों के प्रशासन के लिए बहाउल्लाह ने जो एक अनूठी प्रणाली स्थापित की थी वह शोगी एफेन्दी के मार्गदर्शन में तेजी से पूरे विश्व में विकसित होती चली गई। उन्होंने बहाई पवित्र ग्रंथों का अंग्रेजी में अनुवाद किया, पवित्र भूमि में प्रभुधर्म के आध्यात्मिक और प्रशासनिक केंद्र का विकास किया और अपने द्वारा लिखे गए हजारों पत्रों के माध्यम से उन्होंने सभ्यता के आध्यात्मिक आयाम और सामाजिक परिवर्तन की गतिमयता के बारे में गहन अंतर्दृष्टि प्रदान की और मानवजाति जिस भविष्य की ओर कदम बढ़ा रही है उसकी अद्भुत संकल्पना प्रस्तुत की।

इस विषय का अन्वेषण:

शोगी एफेंदी का जीवन और कार्य

मार्गदर्शन और अनुवाद

शोगी एफेंदी का देहावसान

शोगी एफेंदी के लेखों से उद्धरण

Scroll Up