समुदाय निर्माण



“और बहाउल्लाह की शिक्षाओं में से एक यह है कि हालांकि भौतिक सभ्यता मानव-संसार की प्रगति का एक साधन है लेकिन जबतक वह दिव्य सभ्यता से संयुक्त नहीं हो जाती तबतक वांछित परिणाम, अर्थात मनुष्य का कल्याण प्राप्त नहीं किया जा सकेगा...”


अब्दुल-बहा

पूरे विश्व में, वे लोग जो एक नए विश्व के लिए बहाउल्लाह द्वारा की गई संकल्पना से प्रेरित हैं वे ऐसे जीवन्त समुदायों के निर्माण के लिए समर्पित आयोजनों और गतिविधियों में व्यस्त हैं जो आध्यात्मिक और भौतिक रूप से समृद्ध हों। ऐसे समुदायों के निर्माण के लिए, उनका निर्माण करने वाले व्यक्तियों, संस्थाओं और समुदायों की क्षमता और परिपक्वता में अपार संवृद्धि की आवश्यकता होगी। वर्तमान समय में, भारत भर के बहाई समुदायों में उपासना और सेवा की धुरी पर केन्द्रित गतिविधियों और कार्यक्रमों के माध्यम से ऐसी क्षमताओं का विकास किया जा रहा है।

बहाई शिक्षाओं के बारे में दूसरों से अंतर्दृष्टियाँ साझा करके, सामूहिक उपासना के लिए अवसर उत्पन्न करके, युवाओं को सशक्त बनाकर और मित्रों के समूहों को ईश्वरीय वाणी का अध्ययन करने और विश्व को बेहतर बनाने के लिए उन्हें क्रियान्वित करने में सहायता देकर, प्रतिभागी समुदाय-निर्माण की एक ऐसी प्रक्रिया में अपना योगदान दे रहे हैं जिसमें उपासना और सबके कल्याण के लिए किए जाने वाले प्रयासों को एकसाथ पिरोया गया है।

Scroll Up